Kali andheri raaton me,

hindi shayari jab ji chahta hai
Hindi shayari jab ji chahta hai

जब जी चाहता है कर देते हो मायूस मुझे
तुम्हें जरा भी ख़ौफ नहीं मेरे बिछड़ जाने का…..
Jab ji chahta hai kr dete ho mayush mujhe
Tumhe jra bhi khof nhi mere bichd jane ka


काली अंधेरी रातों में ..
चाँदनी का उज्जवलित पहरा हूँ मैं !!…
Kali andheri raaton me,
Chandani ka ujwalit phera hu main.


 

hindi shayari dil muskura jata hai
Hindi shayari muskura jata hai

दिल मुकर जाता है तुम्हें भुलाने से,
एक उम्मीद उसमें छुपी आज भी है.. !!
Dil mukar jata hai tumhe bhulne se,
Ek umeed usme chupi aaj bhi hai .


अंदर के हादसों पे किसी की नज़र नहीं
हम मर चुके हैं और हमें इस की ख़बर नहीं… !!
Andar ke hadse pe kisi ko njr nhi,
Hum kr chuke hai or hume iski khbar nhi.


काश़ इंसान भी नोटों की तरह होते हैं,
रोशनी की तरफ़ करके देख लेते असली है या नक़ली !!
Kash insam bhi noto ki trh hote hai,
Roshani ki trh krke dekh lete asli hai ya nkli..


किसी को फिर भी महँगे लग रहे थे
फ़क़त साँसों का ख़र्चा था हमारा !!
Kisi ko fir bhi mahenge lg rahe the,
Faqt sason ka kharcha tha humara.

Leave a Comment