Kamiya dhundte hai log mujme

 

Sad shayari
Sad shayari

 

कमियाँ ढूँढते है लोग मुझमें ऐसे
खुद के किरदार में खुदा हो जैसे “.
Kamiya dhundte hai log mujme aise
Khud ke kirdar me khuda ho jaise


उतर औऱ माप ले गहराईयों को समन्दर की
यूं किनारे पर खड़े होकर दरिया पार नहीं होगा ..
Uttar or map le gharaiyo ko Samundar ki
Yu kinare par khade hokar dariya paar nhi hoga


क्यूं एक दिल की दुसरे दिल को ख़बर ना हो
वो दर्द-ए-इश्क़ ही क्या, जो इधर हो उधर ना हो!!
Kyu ek dil ki dusre dil ko khabar na ho
Vo dard A ishq hi kya, jo idar ho udar na ho..


बेख़्याली’ में किसी का मुझे ख़्याल नहीं…
एक तू है, मैं हूं और दरम्यान प्यार नहीं….!!
Bekhyali mai kisi ka mujhe khyal nahi
Ek tu hai


तमन्नाओं के बहलावे में अक्सर आ ही जाते है
कभी हम चोट खाते है , कभी हम मुस्कराते है ..
Tamnnaaao ke bhlave mai akshar aa hi jate hai
Kabhi hum chote khate hai kbhi hum muskrunate hai


पारस हो गए हम यूं महसूस करके तुम्हें ..
ना उम्र बढ़ती है ना इश्क़ घटता है…!!
Paras ho jaye hum yu mahsos karke tumhe
Na umr badti hai na ishq ghdta hai

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *