Mariz dard mai sahne ka ban baetha

sad shayari, mariz dard
Sad shayari, mariz dard

मरीज़ दर्द मै सहने का बन बैठा था
किस्मत का खेल था, मोहरा उसका मै था
Mariz dard mai sahne ka ban baetha tha
Kismat ka khel tha, mohra uska mai tha..


तुम क्या मिले जाने जाँ प्यार जिंदगी से हो गया
ज़िंदगी की हर शह पर ऐतबार हो गया..
Tum kya mile jane jaah pyaar jindagi se ho gya
Jindagi ki har saah par aetbaar ho gya..


उसूल तोड़े हैँ मैंने अपने,
कुछ आराम पाने को
Ushul tode hai maine aapne
Kuch aaram pane ko


बन्द हैं आशियानों में अमीर बड़े शौक़ से
भटक रही है भूखे पेट मुफ़लिसी मुल्क़ की…
Band hai aashiyano mai amir bade shok se
Batak rhi hai bhuk pet muflisi mulk ki


चलते थे इस जहाँ में कभी सीना तान के हम भी,
ये कम्बख्त इश्क़ क्या हुआ घुटनो पे आ गए !!
Chlte the is jahan me kabhi sina taan ke hum bhi
Ye kambhaqt ishq kya hua ghutno pe aa gya


उन पंछियों को कैद में रखना आदत नही हमारी
जो हमारे दिल के पिंजरे में रहकर
गैरों के साथ उड़ने का शौक रखते हों !!
Un panchiyo ko kaid me rakhna aadat nahi humari
Jo humare d ke pinjre me rahkar
Gairo ke sath udne ka shok rakhte ho..


इश्क की आबो हवा का तो पता नहीं पर,
जब से तुम मिले हो हर मौसम अच्छा लगता है।
जिन्हे रिश्ते निभाने होते हैं,
Ishq ki aabo hawa ka to pta nahi par
Jab se tum mile ho har mausam aacha lgta hai
Jinhe rishte nibhane hote hai.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *